उपवास से पहले कांग्रेस नेताओं ने उड़ाई छोले भटूरे की दावत, वायरल हुई फोटो

नई दिल्ली: दलितों के साथ हो रही हिंसा के विरोध में कांग्रेस ने सोमवार को देशव्यापी उपवास रखा. इसका हिस्सा बनने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष से लेकर पार्टी के कई दिग्गज नेता राजघाट पहुंचे. लेकिन इसी दौरान एक तस्वीर सोशल मीडिया पर आग की तरह फैल गई. इस तस्वीर में कांग्रेस के बड़े नेता राजघाट पर उपवास रखने से पहले दिल्ली के चांदनी चौक स्थित एक रेस्त्रां में छोले भटूरे की दावत उड़ाते नजर आ रहे हैं. फोटो में अरविंदर सिंह लवली, हारून यूसुफ और अजय माकन भी नजर आ रहे हैं. तस्वीर वायरल होने के बाद कांग्रेस नेता अपने बचाव में तरह-तरह की सफाई देते नजर आए. उन्होंने बीजेपी पर भी सत्ता पर ध्यान नहीं होने का आरोप भी लगाया.

फोटो में दिख रहे नेताओं में से एक कांग्रेस नेता अरविंदर सिंह लवली भी थे. जब उनसे तस्वीर के संबंध में मीडिया ने सवाल किए तो उन्होंने जवाब दिया कि, ‘ये कोई अनिश्चित भूख हड़ताल नहीं है, बल्कि 10:30 से 4:30 बजे तक रखे जाने वाला सांकेतिक उपवास है.’ तस्वीर सुबह 8 बजे से पहले की है. आगे उन्होंने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि, ‘बीजेपी के साथ यही दिक्कत है. वे सरकार चलाने से ज्यादा इस बात पर ध्यान देते हैं कि हम खाने में क्या खा रहे हैं.’

 

बीजेपी नेताओं ने दिए ये रिएक्शन
कांग्रेस नेताओं की उपवास से पहले छोले भटूरे खाने की फोटो सामने आने पर बीजेपी नेताओं ने भी रिएक्शन दिए. बीजेपी नेता गिरिराज सिंह ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि ‘कांग्रेस तो उपवास में भी घपला कर रही है.’ वहीं हरीश खुराना ने कहा कि, ‘ये तस्वीर कांग्रेस के डबल स्टैंडर्ड को दिखाता है. एक तरफ वे उपवास रखने की बात करते हैं, तो दूसरी तरफ उनकी खाते हुए तस्वीरें सामने आ रही हैं. यह तस्वीर पूरी तरह सही है.’ विधायक मंजिंदर सिंह सिरसा ने भी घटना को लेकर कांग्रेस की आलोचना की. उन्होंने कहा कि, ‘इनकी मानसिकता ही खाने की है, ये भूखे नहीं रह सकते.’

मंच से हटाए गए जगदीश टाइटलर और सज्जन कुमार
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की अगुवाई में राजघाट पर आयोजित उपवास कार्यक्रम में पार्टी के नेता जगदीश टाइटलर और सज्जन कुमार हिस्सा लेने पहुंचे थे, लेकिन उन्हें मंच से उतार दिया गया. बताया जा रहा है कि सज्जन कुमार और जगदीश टाइटलर 1984 सिख दंगा मामले में आरोपी हैं, ऐसे में उनके राहुल गांधी के बगल में बैठने से उनकी छवि को नुकसान पहुंच सकता था. इसी बात को ध्यान में रखते हुए उन्हें मंच से उतरने के लिए कह दिया गया. हालांकि पार्टी के नेताओं ने इस आरोप को खारिज किया है. इन विवादों के बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राजघाट पर पहुंचकर कांग्रेस के उपवास कार्यक्रम में हिस्सा लिया. राहुल गांधी ने बापू की समाधि स्थल पर जाकर सिर झुकाया.

बीजेपी का पलटवार, ‘2019 में लोकसभा चुनाव हारेंगे राहुल और सोनिया’

पार्टी के वरिष्ठ नेता अरविंदर सिंह लवली ने कहा कि यह उपवास पार्टी की ओर से आयोजित किया गया है, इसलिए इसमें नेता आ रहे हैं और अपनी उपस्थिति दर्ज करा कर जा रहे हैं. उन्होंने सज्जन कुमार और जगदीश टाइटलर को मंच से उतारे जाने की बात को खारिज कर दिया